जूतियाँ

419853_10150559832381366_239842327_n

Photograph: Aamna Khan

जूतियाँ अलग होकर भी साथ चलती हैं,
शिक़वा-गिला नहीं करती |
एड़ियाँ चोट खाती, टकराती
साथ ले ही चलती हैं |

उनका घिसना भी साझेदारी का,
पहले मैं फिर इंतज़ार तुम्हारी बारी का |
धूम में चमके भी, तो साथ,
कीचड़ में सने, तो भी साथ |

कभी ये आगे तो वो पीछे,
यहाँ मुक़ाबला नहीं चलता
सिर्फ संय्यम फीते,
जो जुदा रख कर भी पास खींचे |

इसलिए एक खो जाए,
तो दूजी अपाहिज, लाचार सी |
जिसका कोई मेल नहीं,
जिसका कोई मोल नहीं |

और ये तो सिर्फ़ जूतियाँ हैं ||

 

Advertisements
This entry was published on February 7, 2014 at 18:01. It’s filed under bombay, bombay poetry, Gulposh, Hindi poetry, Kavita, Poetry, sea link, Urdu kavita, urdu shayari and tagged , , , . Bookmark the permalink. Follow any comments here with the RSS feed for this post.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: