Archives for category: Moonlight

“पता है, मैं परसों वापस जा रही हूँ और ये काम अधूरा ही रह जायेगा | मुझे ये सारी चीज़ें वेंडर से लेके दीदी के पास घर भिजवानी थी और और एक 8 किलो का पार्सल वाशी से कलेक्ट कर के अपने साथ ले जाना था | टाइम ही नहीं मिल रहा यार, I hate my life |”

हाँ तो वो एड्रेस मुझे भेज दो, मैं पार्सल भिजवा दूंगा तुम तक, और हाँ वो वेंडर वाला काम भी बता दो क्या है ?

“अच्छा, इतना वक़्त है भी तुम्हारे पास?”

वक़्त तो मेरे पास भी नहीं है, पर सहूलियत के हिसाब से कर दूंगा |

“हाय, and why would you do that ?”

Because I love you idiot!!

मेरा कोई इरादा नहीं था कि आज ये बातें होंगी | न ही कोई मंसूबे पाल रखे थे कि ये बात मुझे उससे करनी ही है | मेरी ज़बां ऐसे भी फिसल सकती थी कभी सोचा नहीं था | उस बेंच पर हम इसलिए बैठे थे क्यूँकि हम चलते-चलते थक चुके थे, बाकि जोड़ों की तरह नहीं जो उस ढलती शाम में समंदर के सामने कोई और मक़सद पूरा कर रहे थे | हालाँकि उनका मक़सद भी बुरा नहीं है, आख़िर मैं होता कौन हूँ judge करने वाला |

मैंने ग़ौर किया कि शिफ़ा मेरी तरफ़ देख रही है, जबकि मैंने ये बात बिना कोई ज़ोर दिए समंदर की ओर देखते हुए बस कह दी थी | मैंने उसकी तरफ़ अपनी शकल घुमाई, वो अब भी मुझे वैसे ही देख रही थी | उसका मुँह ज़रा सा खुला हुआ था, confused सी शक्ल थी, उसके होंठ हिल रहे थे पर कुछ सुनाई नहीं दे रहा था; शायद उसके अलफ़ाज़ जुड़ कर पुरे वाक़्य का रूप ले ही नहीं पा रहे थे, फिर मैंने ही पूछ लिया…..

What ?

“You tell me, ‘what?’ What did you just say?

आह!! nevermind. [बस, यहीं फिसली थी ज़बां]

“What nevermind ……… ” अब उसे गुस्सा आ रहा था |

यार, पहली दफ़े थोड़ी कह रहा हूँ तुमसे I love you.

हालाँकि हम दोनों एक दूसरे को कई बार I love you कह चुके थे  पर वही platonic सा, दोस्तों वाला |

“Okay, but this didn’t sound the usual one, and stop pretending as if …………”

As if ? I am not pretending anything.

उसने गहरी सांस ली, अपने बालों को अपने चेहरे से हटाते हुए अपने हाथों में समेटा और फिर छोड़ दिया | पल भर में उसकी झुँझलाहट ऐसे उड़ गयी जैसे पानी के थपेड़े चट्टानों पर टकरा के शांत हो जाती हैं |

“ये आज क्यों कह रहे हो मुझसे ?  You know I am seeing someone, right?”

मुझे इस बात पे काफ़ी हंसी आयी जो मैंने रोकने की कोशिश की पर एक-आध होठों से छूठ गयी | शिफ़ा के साथ बिताये पिछले सात-आठ सालों में मैं महज़ एक दोस्त से उसका BFF बन गया था, उसकी नज़रों के सामने मेरी एक गर्लफ्रेंड और चार-पांच खूबसूरत नाकाम कोशिशें हो चुकी थी और मैं भी उसके तीन बॉयफ्रैंड्स का गवाह रह चूका था |

Of course, I know that. पर उस बात से मेरी इस बात का कोई लेना देना नहीं है |

“क्या मतलब ? अबीर , I can’t figure out कि तुम क्या कहने की कोशिश कर रहे हो |

मुझे अंदाज़ा हो गया था कि मेरी बातें उसे और उलझन में डाल रही हैं, जो बातें मुझे खुद समझने में कुछ साल लग गए वो मैं चार लाइनों में कैसा कह सकता था | ख़ैर |

मैं बस इतना कह रहा हूँ की मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ |

वो ज़रा चिढ़ गयी, “अबीर, मुझे I love you का ट्रांसलेशन मत दो, क्या कहना चाहते हो साफ़-साफ़ कहो, please.  ”

इतना कहते हुए उसका हाथ मेरे दाएं कंधे पे आ गया | मुझे लगा अभी काफी कोशिशें और करनी होंगी | ये कम्बख्त हिंदी फिल्मों में भी प्रेम, प्यार, love को इतना एक तरफ़ा इतना  one dimensional तरीके से पेश किया गया है कि हम उसके बाकि पेहलूओं कि तरफ नज़र भी नहीं उठाते जबकि प्यार तो बड़ा ही multi-dimensional जज़्बा है |

थोड़ा वक़्त चुराने के लिए मैंने फिर से समंदर कि ओर देखना शुरू कर दिया | शिफ़ा को शायद आगाज़ हो गया कि मैं क्या कहने कि कोशिश कर रहा हूँ पर वो शायद जानबूझकर इस बात से न वाक़िफ़ रहना चाहती थी, या शायद सच में मेरे लफ़्ज़ों में सुनना चाहती थी, ये मैं नहीं जानता पर उसे इतना तो मालूम ही था कि मेरी ज़िन्दगी में उसकी एहमियत मेरे बाकी दोस्तों के मुक़ाबले कहीं ज़्यादा थी | तो मैंने फिर कोशिश कि |

तुमने सलमान कि वो पिक्चर देखी है ? ये……..आ……. ” मैंने प्यार किया ” उसमें मोनिश बहल का एक डायलाग है ” एक लड़का और एक लड़की कभी दोस्त नहीं हो सकते ”

” हाँ सुना है, एकदम बकवास है ” उसने थोड़ा और चिढ़ कर कहा |

नहीं, मुझे लगता है मोनिश भाई बिलकुल सही बात कह रहे हैं  | देखो शिफ़ा मैं तुम्हें और कोई परेशानी में नहीं डालना चाहता, मैं सिर्फ इतना कह रहा हूँ कि मेरे दिल में तुम्हारे लिए एक बहुत ही ख़ास जगह है जो शायद किसी और के लिए नहीं |
शिफ़ा ने अपने होंठ असमंजस में अंदर खींच लिए, और अपनी आँखों से आगे कहने के लिए इशारा किया | उसकी पकड़ मेरे कंधे पर ज़रा हलकी हुई और मेरे कंधे को प्यार से सहलाया |

देखो शिफ़ा, इस बात में कोई दोराय नहीं है कि तुम मेरे लिए बहुत ख़ास हो, बहुत ख़ास | पर एक दूसरा सच ये भी है कि मेरा मक़सद तुम्हें हासिल करना नहीं है, I’ve never wanted to posses you or keep you to myself.

मेरी नज़रें बार-बार शिफ़ा की मासूम शक्ल से हट कर समंदर की तरफ ताकने लगती या ऊपर देखने लगती, पर उसकी ओर देखने में अजीब सी हिचकिचाहट हो रही थी, आप कह सकते हैं कि मैं थोड़ा blush  भी कर रहा था |

मैं जानता हूँ कि तुम्हारी life में कोई और है और मैं उस जगह बिलकुल पहुँचना नहीं चाहता, मैं तुमसे शादी नहीं करना चाहता तुम्हारा boyfriend  भी नहीं बनना  चाहता; मैं तुम्हारा वो साथी बनना चाहता हूँ जिसके साथ तुम्हें कभी डर न लगे, जिसके साथ तुम्हें कभी वो न बनना पड़े जो तुम हो ही नहीं या कैसी भी ख़लिश महसूस हो, जिसके साथ तुम जितनी बेबाक जितनी बेशर्म होना चाहो हो सको, बग़ैर किसी moral judgement के |
और ये बनने के लिए मुझे नहीं लगता कि शादी या वैसे किसी बंधन कि ज़रूरत है | ये एहसास रूमानी तो है पर उन तमाम जिस्मानी ज़रूरतों से दूर है |

“You know अबीर, मुझे कभी नहीं लगा था कि कोई मुझसे ये सारी चीज़ें कहेगा, or someone can like me the way you said you do.” इतना कहते हुए उसने मेरे हाथ को कस के थाम लिया |

इतना हुआ ही थी कि उसका फ़ोन बजने लगा, उसने अपना बायां हाथ छुड़ाकर अपनी जेब से फ़ोन निकल जिसपे उसके बॉयफ्रेंड का नाम फ़्लैश हो रहा था | मैं जानबूझ के कोई ड्रामा या exaggeration नहीं कर रहा बल्कि सारा किस्सा बाक़ायदा वैसे ही बता रहा हूँ जैसे हुआ | शिफा ने फ़ोन कि तरफ देखा फिर मेरी तरफ, हम दोनों ही मुस्कुरा रहे थे |

क्या timing के साथ पैदा हुआ है ये बंदा!!

“I know right ? ” वो भी हँसे बिना न रह सकी फिर उसने फ़ोन काट दिया और फिर मुस्कुरा कर मुझसे कहा “आगे कहो अबीर,  but कभी तुम्हें ऐसा नहीं लगा कि you actually love me, I mean…like…. you know ?”

एक पल के लिए लगा भी but then I realised कि तुम वो लड़की हो ही नहीं जिसके साथ मैं पूरी ज़िन्दगी गुज़ारना चाहूँ |  ये समझने में मुझे थोड़ा वक़्त ज़रूर लगा पर देखो, खामियां और खूबियां सब में होती हैं, शायद तुम में वो खूबियां नहीं है जो मैं अपने पार्टनर में देखना चाहता हूँ but this doesn’t mean that I love you any less. तुम्हें याद है when I was dating ? मुझे महक बहुत पसंद थी, I really loved her a lot पर उसके आने से तुम्हारी जगह कभी कम नहीं हुई |

“I know, पर अब तो वो है नहीं ” उसने चुटकी लेते हुए पुछा |

यार तुम बात मत घुमाओ, वो गयी तो क्या ? दुनिया में लड़कियाँ कम थोड़ी हैं |

शिफ़ा ने तपाक से मेरे हाथ पर मारा और हंसने लगी, ( वैसे उसकी मुस्कान बहुत प्यारी है ) ” अच्छा………… चलो ये भी ठीक है, पर अब आगे क्या ? ”

आगे क्या मतलब ? चीज़ें जैसी हैं वैसी रहने दो, अब ये बस दोस्ती है या क्या है मैं नहीं जानता, पर जो भी है उतना ही पाक और शिददत भरा है जितनी मोहब्बत होती है | बस हम न बदले, हमारा ये जो tight equation है, ये न बदले; बाद-बाकी तो सब बदल ही जायेगा |

” लेकिन अगर सब वैसा ही रहना है तो तुमने मुझसे आज ये सब क्यूँ कहा ? ”

( औरतों की ये बड़ी पुरानी बीमारी है, हाथ घुमाके वापस नाक पकड़ने की | शायद ये भी एक बहुत बड़ी वजह है कि क्यों शिफ़ा के लिए मेरी मोहब्बत उस मुक़ाम तक नहीं पहुंची | )

क्यूंकि मैं  चाहता था कि तुम इस बात को जानो कि तुम मेरे लिए कितनी important हो | मेरा कोई इरादा नहीं था आज ये सब बातें करने का | तुमने शुरुआत में अगर वो बेतुका सवाल न किया होता  तो हम… sorry, मैं यहाँ तक पहुँचता ही नहीं, but I am glad I did |

“So am I अबीर ”

इतना कहते हुए शिफ़ा थोड़ा और करीब आयी और मुझे कस कर गले लगाया | आज से पहले वह जितनी बार भी मेरे गले लगी थी, ये सबसे सुकूनदायी था | आज दो गहरे दोस्त थोड़ा और गहरे यारों में तब्दील हो गए थे | हमारा ये करीबी रिश्ता शायद बाकि अवाम कि समझ से परे हो पर हमारे ज़हन में बिलकुल पानी की तरफ साफ़ था |

उस ढलती शाम के समन्दर में चाँन्द की रौशनी पानी से होते हुए हम पर थी | न चाहते हुए भी वो माहौल कुछ ओर था, जिसकी नज़ाक़त को रखते हुए मैंने शिफ़ा के सिर को चुम लिया |

ये kiss platonic नहीं था, भरपूर रूमानी एहसासों से भरा हुआ उसके प्रति मेरा बेशुमार, अशर्त प्यार था ||

moonshoon

 

Chaandni ne chhua hai mujhe,
Hadd se bhi zyaada aajkal.

Mehfuz raha ambar tal`e,
Sirf sukoon aajkal.

Aur chaandni kahe,
Tera chaain kahin aur.
Uspe ghana yeh sitaron ka shor.
Unko bhi chhua aajkal.

Jo roshni aaye jharokhe se,
Chup ke se, sharma ke.
Aur ujjla Chaand bhi
Woh dekhe kahin se.
Phir kyun karoon main shiqayat
Ki woh paas nahi.
Faaslon mein bhi hai
Woh pass kahin.
Jugnu  hi the meri gawahi, Kab?
Aajkal……..aajkal.

Chaandni ne chhua hai mujhe,
Hadd se bhi zyada aajkal.

Ab har chadhti chaandni mein,
Aaye woh nazar.
Aur sitare karein shaitaniyaan.
Jalte-bujhte tim-timate,
Jaise yaadon ki sargoshiyaan.

Aur main kya kahoon unse?
Jo kaha na ab tak.
Bol, uss unkahe bandhan ke.

Phir mujh par muskurana chaandni ka.
Ki main kya kahoon, kaise kahoon?
Ya chup rahoon.
Aur wahi pahuchaye bol mere.
Jo choo rahi hum dono ko,
Kuchh zyada hi aajkal.